Wednesday, April 28, 2010

kjllllllllllllkj,kj

gchkfhkjj,.kj.hk;;;kl;.klh.kl./

4 comments:




  1. दोस्तो वैसे तो मैं बहुत दिनो से आरएसएस पर कहानियाँ पढ़ रहा हूँ सभी कहानियाँ एक से बढ़ कर एक हैं इसलिए मैने भी सोचा कि मैं भी एक कहानी शुरू कर ही दूं वैसे तो मुझे पता है कि यहाँ कोई भी लेखक को बधाई नही देता कमेंट नही करता फिर भी मैं ये कहानी शुरू करने की हिम्मत कर पा रहा हूँ और आशा करता हू कि आप सभी रीडर्स का मुझे भरपूर सहयोग मिलेगा , धन्यवाद आपका ऐक्स वाई ज़ेड

    अपडेट 1

    मेरा नाम अवी है. बचपन मे ही मेरी मा और पिताजी की एक रोड आक्सिडेंट मे डेथ हो गयी. मैं अनाथ हो गया. मेरे पिताजी का एक छोटा भाई और तीन बहने है . मेरे पिताजी पाचो भाई बहेनो मे बड़े थे.


    मेरे चाचा ने 3 शादिया की थी, क्यू कि मेरी बड़ी चाची और मझली चाची को कोई बच्चा नही हुआ था. इस लिए मेरे चाचा ने तीसरी शादी की. मेरी बड़ी चाची का नाम सुमन है. मझली चाची का नाम सीमा है और छोटी चाची का नाम मीना है.

    पूजा बुआ की फॅमिली-पूजा बुआ को 2 बेटी और 1बेटा है. बड़ी बेटी का नाम स्वेता और छोटी बेटी का नाम सीतल और बेटे का नाम राज है.

    नेहा बुआ की फॅमिली-नेहा बुआ को 2 बेटी है कोमल और कविता. नेहा बुआ को मैं बिल्कुल भी पसंद नही हू .वो हमेश मुझे मारती और गालियाँ देती है

    नीता बुआ की फॅमिली-नीता बुआ को 1 बेटा और 1 बेटी है. दोनो जुड़वा है. बेटी का नाम लीना और बेटे का नाम राजेश है.

    मेरे सभी भाई बहन मुझसे छोटे है सिर्फ़ पूजा बुआ की दोनो बेटियो को छोड़ के क्यू कि मेरी बुआ ने 18 साल से कम उमर मे शादी की थी.मतलब मेरे पिताजी से पहले शादी की थी. मेरी मा और पिताजी की डेथ के बाद मेरे दादाजी ने मुझे अपने गाओं मेरे चाचा के साथ रहने को कहा. बड़ी चाची ने मुझे अपने घर लाने के लिए दादाजी को कहा था.शायद उनको बेटा नही था इसी लिए मुझे अपने पास रहने को बुला लिया. मेरी तीनो बुआ और मेरे चाचा एक ही गाओं मे रहते है.

    मेरे माता पिता की डेथ को काफ़ी समय हो गया , आज मेरी उमर 20 साल है, मेरे माता पिता का आक्सिडेंट मेरे लिए एक शॉक्ड था, इस सदमे से निकलने के लिए मुझे 3 साल लग गये

    उन 3साल मे ना मुझे भूक लगती थी और ना प्यास लगती थी,ना मैं किसी से बात करता था,और ना खेलने जाता था,ना पड़ाई करता बस अपने माता पिता को याद करता था

    पर कहते है ना जो चला जाता है उसकी याद मे कितने दिन आसू बहाओगे

    मेरी बड़ी चाची के समझाने पर मैं ने अपनी नयी लाइफ सुरू करने का फ़ैसला किया

    3 साल की गॅप को भर पाना मुश्किल था

    फिर भी मैं ने हिम्मत नही हारी, बड़ी चाची ने मुझे गाओं के स्कूल मे अड्मिशन दिला दिया,बाकी लड़को से मेरी एज ज़्यादा थी,जिस से स्कूल मे मैं अकेला था,ना फ्रेंड थे और ना कोई हमदर्द था


    ये थी मेरी नयी लाइफ की शुरूआत,

    चलो मैं अपने भाई बहनो से मिलाता हू

    पूजा(बड़ी बुआ)-42
    नेहा(2न्ड बुआ) -40
    नीता(छोटी बुआ जुड़वा बहन नेहा)-40
    चाचा -37
    1स्ट चाची (सुमन)-32
    2न्ड चाची (सीमा)-29
    3र्ड चाची (मीना)-27

    स्वेता दीदी-22साल
    सीतल दीदी-21साल
    अवी(मैं)-20 साल
    कोमल-19साल
    कविता-18साल
    लीना और राजेश-18साल
    राज(स्वेता का भाई)-18 साल


    READ MORE...........
    ....................


    ReplyDelete